☰ Menu    

केरल: बच्ची ने गुल्लक में जमा 9 हजार रु. दिए,मछुआरों ने कहा- जान बचाने के पैसे नहीं लेंगे

 तमिलनाडु की 9 साल की अनुप्रिया नई साइकिल के लिए पैसे जोड़ रही थीं, लेकिन केरल के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए उन्होंने 4 साल में जमा किए 9 हजार दान दे दिए। उधर, केरल सरकार ने मछुआरों से बचाव कार्य में जुटने की अपील की। उनसे कहा गया कि आपकी टीम के हर सदस्य को 3-3 हजार रुपए दिए जाएंगे। मछुआरों ने रुपयों की पेशकश को ठुकरा दिया। 

 

बच्ची ने रोज 5-5 रुपए जोड़े : फिझुपुरम की अनुप्रिया साइकिल के लिए रोज 5-5 रुपए जोड़ती थीं। उन्हें केरल के लोगों की हालत के बारे में पता चला तो 5 पिगी बैंक में जोड़े सारे पैसे दान करने का फैसला कर लिया। पांचों पिगी बैंक तोड़ने के बाद 9 हजार रुपए निकले, जिन्हें मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष में जमा करा दिया गया। 

 

मछुआरे बोले- जान बचाने से ज्यादा खुशी किसी चीज में नहीं : कोच्चि में मछुआरों की टीम ने कई लोगों की जान बचाई। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने इस टीम की तारीफ की और हर सदस्य को 3-3 हजार रुपए देने की बात कही, लेकिन दल के सदस्य खैस मोहम्मद ने कहा- मैं और मेरे साथी मुख्यमंत्री की तारीफ से ही खुश हैं। हमें किसी भी तरह का मेहनताना नहीं चाहिए। लोगों की जान बचाने से ज्यादा खुशी किसी भी चीज में नहीं है।

 बाढ़ से जूझ रहे केरल में बारिश की तीव्रता कम हो रही है। लिहाजा, अब बचाव और राहत कार्य युद्ध स्तर पर हो रहे हैं। इस बीच कुछ ऐसे भी चेहरे सामने आए, जिनकी मदद किसी मिसाल से कम नहीं।

साभार








Leave a Reply