Prabhat Times
नई दिल्ली। पाकिस्तान में एक बिस्कुट का विज्ञापन इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ है। विज्ञापन के वीडियो में नजर आनेवाली महिला के डांस को ‘मुजरे’ का नाम देकर आलोचना की जा रही है।
विरोध करनेवालों में अवाम से लेकर सरकार के मंत्री तक भी शामिल हो गए हैं।
लोग पाकिस्तान में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटिरी ऑथोरिटी (पेमरा) की भूमिका पर सवाल खड़े कर रहे हैं। यहां तक कि विरोध बढ़ता देख पेमरा को बयान जारी करना पड़ा।
उसने कहा है कि एडवरटाइजिंग एसोसिएशन और एडवरटाइजिंग सोसाइटी को विज्ञापन के कंटेट पर विचार करना चाहिए।

बिस्कुट के विज्ञापन पर पाकिस्तान में हाय-तौबा

बिस्कुट के लिए शूट किए गए विज्ञापन में पाकिस्तानी अदाकारा महविश हयात पाकिस्तान के पारंपरिक वेशभूषा और परिवेश में नजर आ रही हैं।
उनके आसपास डांस करते अन्य कलाकार रंग-बिरंगे परिधान पहने हुए हैं। वीडियो में गाने की धुन पर सभी कलाकारों को झूमते-नाचते, हंसते और मुस्कुराते देखा जा सकता है।
सोशल मीडिया पर विज्ञापन का वीडियो जारी होने के साथ ही एक नई बहस शुरू हो गई।
एक ग्रुप ने जहां विज्ञापन को अश्लीलता के दायरे में करार दिया तो वहीं दूसरे ग्रुप ने उसका करारा जवाब दिया है।
उसका कहना है कि अब कलाकार की स्वतंत्रता भी सुरक्षित नहीं रही।
विज्ञापन के वीडियो को अश्लील बतानेवाले एक सोशल मीडिया यूजर ने लिखा, “बिस्कुट बेचने के लिए अब टीवी चैनल्स पर मुजरा चलेगा।
पेमार नामक कोई संस्था है भी यहां? क्या इमरान खान की सरकार इस मामले में कोई कार्यवाही करेगी?” उन्होंन पूछा कि क्या पाकिस्तान इस्लाम के नाम पर नहीं बना था?

महिला के डांस को ‘मुजरा’ बतानेवालों को करारा जवाब

सोशल मीडिया पर मुजरा बतानेवाले यूजर के विरोध में मोर्चा संभालनेवाली एक महिला ने लिखा, “हंसती, मुस्कुराती, गाती, झूमती महिलाओं से नफरत है इस समाज को, इनको सिर्फ सहमी, खौफजदा, रोती हुई औरत पसंद है। जब टीवी पर दिखाई जाती है तो किसी को कोई आपत्ति नहीं होती।”
Share the information