अवैध शराब फैक्ट्री मामले में BJP नेता शीतल अंगुराल का बड़ा खुलासा, SSP ने गठित की SIT, पुलिस, एक्साईज़ विभाग के गले की फांस बन सकता ये मामला!

Prabhat Times
जालंधर। भाजपा (BJP) नेता शीतल अंगुराल, राजन अंगुराल के खिलाफ अवैध शराब फैक्ट्री तथा सरकारी अधिकारियों के साथ मारपीट के आरोप में दर्ज किया गया मामला जालंधर देहात पुलिस और एक्साईज़ विभाग के गले की फांस बनता नज़र आ रहा है। शीतल अंगुराल एस.सी. कमिशन को लिखित शिकायत और मौके का वीडियो जारी कर एक्साईज़ विभाग, पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़ा करते हुए बड़े खुलासे किए हैं। शिकायत पर कड़ा संज्ञान लेते हुए एस.सी. कमिशन ने जालंधर देहात पुलिस और एक्साईज़ विभाग को नोटिस जारी किया है। उधर, जालंधर देहात पुलिस द्वारा मारपीट के आरोपों की जांच के लिए एस.आई.टी. गठित कर दी है। उधर, पहला वीडियो जारी करने के साथ ही शीतल अंगुराल ने दावा किया है कि इस मामले से जुड़े और भी वीडियो उनके पास है। जिन्हें वे कल जारी करेंगे।

आखिर नेम प्लेट क्यों छिपा रहे थे पुलिस वाले

मामला अंगुराल बंधुओं से जुड़ा होने के कारण तूल पकड़ने लगा। दोपहर बाद भाजपा नेता शीतल अंगुराल ने पहले फेसबुक लाईव होकर रेड संबंधी एक्साईज़ और पुलिस टीम की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए और वीडियो वॉयरल करके दर्ज किए गए केस की कलई खोल दी। बीते दिन हुए घटनाक्रम संबंधी शीतल अंगुराल ने खुलासा किया कि एक्साईज़ व पुलिस ने पहले उनके भाई को हिरासत में लिया। उसे लेकर पठानकोट रोड़ पर कुछ दिन पहले ही ली गई फैक्ट्री में ले गए। शीतल ने आरोप लगाया कि एक्साईज व पुलिस टीम द्वारा उनके भाई के साथ मारपीट की और गाड़ी तक तोड़ दी। जब उन्हें पता चला तो वे सभी मौके पर पहुंच गए। शीतल ने कहा कि उन पर आरोप लगाया गया है कि रेड के समय वे (अंगुराल ब्रदर्स) सरकारी अधिकारियों के साथ मारपीट करते हुए अपने भाई को छुड़ा कर फरार हो गए। लेकिन शीतल अंगुराल द्वारा जारी की गई वीडियो में साफ है कि वे कहीं भागे नहीं, बल्कि वीडियो में तो पुलिस कर्मचारी अपनी नेम प्लेट छुपाते नज़र आए और अधिकारी और कर्मचारी अपनी गाड़ियों में जाते नज़र आए।
शीतल अंगुराल ने सवाल किया कि जिस फैक्ट्री को अवैध शराब की फैक्ट्री कहा जा रहा है वहां पर एक बूंद भी शराब बरामद नहीं हुई। ये फैक्ट्री उनके भाई राजन ने कुछ दिन पहले ही ली है जिसका सारा रिकार्ड उनके पास मौजूद है। साथ ही जिस मशीन को सरकारी अधिकारियों द्वारा शराब बनाने की मशीन कहा जा रहा है वही मशीन उनके भाई द्वारा अपनी फर्म से पेमेंट और जी.एस.टी. तक अदा करके खरीदी है। शीतल ने सवाल किया कि अगर ये मशीन वे शराब बनाने के लिए खरीदते तो क्या अपने नामों पर खरीदते? शीतल अंगुराल ने बताया कि बीते दिन ही उन्हें एक्साईज व पुलिस द्वारा की जा रही कार्रवाई से बड़ी साजिश की बू आ रही थी। इसलिए उन्होनें मौके की वीडियो के साथ एस.सी. कमिशन को लिखित शिकायत भेज दी थी। शीतल ने दावा किया है कि उनके पास और भी वीडियो मौजूद है वे कल वीडियो जारी करके इस सुनियोजित साजिश का पर्दाफाश करेंगे।

जालंधर देहात पुलिस ने गठित की एस.आई.टी.

इस शिकायत पर कड़ा संज्ञान लेते हुए एस.सी. कमिशन के विजय सांपला द्वारा जालंधर देहात पुलिस और एक्साईज़ विभाग को नोटिस जारी किया है। साथ ही अंगुराल ब्रदर्स द्वारा दी गई शिकायत के आधार पर मामले की जांच के लिए जालंधर देहात के एस.एस.पी. नवीन सिंगला द्वारा एस.आई.टी. गठित कर दी गई है। साथ ही नोटिस जारी कर के एस.आई.टी. के समक्ष पेश होकर अपना पक्ष रखने के लिए कहा गया है।

एक्साईज़ और पुलिस के गले की फांस बन सकता है ये मामला

भाजपा नेता पर दर्ज किए गए मारपीट और एक्साईज़ एक्ट का मामला पुलिस और एक्साईज़ विभाग के गले की फांस बन सकता है। क्योंकि दर्ज किए गए मामले में मारपीट कर आरोपी को मौके से छुड़वा ले जाने तथा अवैध शराब बनाने के आरोप हैं। लेकिन इन गंभीर आरोपों संबंधी पुलिस के पास तो फिलहाल पता नहीं, लेकिन अंगुराल ब्रदर्स के पास ठोस सबूत उपलब्ध हैं। मौके पर सरकारी अधिकारियों से मारपीट कर आरोपी को भगा ले जाने के आरोप हैं। लेकिन ये आरोप कुछ खास ठोस नज़र नहीं आ रहे क्योंकि साथ ही मौके पर एक या दो नहीं बल्कि पुलिस अधिकारी, एक्साईज़ विभाग के अधिकारियों की फौज के बीच मारपीट या आरोपी को छुड़वाना के आरोप हवा में ही लगते हैं। उधर, एक्साईज़ एक्ट की धाराएं हैं, लेकिन पुलिस को शराब की एक बूंद भी बरामद नहीं हुई है। पुलिस के आरोप तथा शीतल अंगुराल द्वारा जारी ब्यान, वीडियो को देखने से स्पष्ट है कि ये मामला पुलिस और एक्साईज़ विभाग की गले की फांस बन सकता है।

ये है मामला

जानकारी के मुताबिक बीते दिन चंडीगढ़ से आई एक्साईज़ विभाग की टीम ने जालंधर देहात के अंर्तगत आते ईलाके में रेड की गई। एक्साईज़ विभाग और पुलिस का दावा रहा कि भाजपा नेता राजन अंगुराल द्वारा संचालित इस फैक्ट्री में अवैध शराब बनाई जाती है। मौके पर फैक्ट्री में सर्च की गई लेकिन मौके से शराब बरामद नहीं हुई। पुलिस ने एक घर के ताले तोड़ कर सर्च की, वहां से छोटे साईज की खाली बोतलें, ढक्कन मिले। अवैध शराब की फैक्ट्री की तलाश में निकली एक्साईज़ विभाग के हाथ जब कुछ नहीं लगा और मामला हाईलाईट होने के कारण देर रात जालंधर देहात पुलिस द्वारा भाजपा नेता शीतल अंगुराल, राजन अंगुराल व उनके छोटे भाई सन्नी अंगुराल के खिलाफ सरकारी अधिकारियों के साथ मारपीट और एक्साईज़ एक्ट के अधीन केस दर्ज कर दिया।

ये भी पढ़ें