Prabhat Times
नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद जो बाइडेन (Joe Biden) पत्नी जिल (Jill Biden) के साथ व्हाइट हाउस (White House) पहुंचे थे. लंबे इंतजार और कड़ी मेहनत के बाद आखिरकार व्हाइट हाउस को आधिकारिक आवास बनाने में सफल बाइडेन जब सीढ़ियां चढ़कर दरवाजे तक पहुंचे तो उन्होंने हाथ हिलाकर अपने समर्थकों का आभार व्यक्त किया. लेकिन उसके बाद जो कुछ हुआ वो खुद हैरान रह गए. दरअसल वो अपनी मंजिल से दो कदम की दूरी पर थे लेकिन चाह कर भी अपनी मर्जी के मुताबिक राष्ट्रपति भवन में दाखिल नहीं हो पाए.

राष्ट्रपति और फर्स्ट लेडी के इंतजार की वजह

दरअसल जैसे ही बाइडेन पत्नी जिल बाइडेन (Jill Biden) के साथ अंदर जाने के लिए मुड़े, तो उनका सामना बंद दरवाजे से हुआ. उनका परिवार भी व्हाइट हाउस की सीढ़ियां चढ़ चुका था, लेकिन दरवाजा नहीं खुला क्योंकि वो बंद था. उस दौरान बाइडेन हैरान रह गए. दुनिया के सबसे ताकतवर राष्ट्रपति को इंतजार करना पड़ा. कुछ पलों तक अजीब सी स्थिति बनी रही. जो और जिल एक-दूसरे की तरफ देखते रहे.
आखिर कुछ पलों बाद अंदर से दरवाजा खोला गया. उन्हें ये इंतजार इसलिए करना पड़ा कि जाते जाते अमेरिका के पूर्ववर्ती राष्ट्राध्यक्ष डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने अपनी रवानगी से पांच घंटे पहले ही व्हाइट हाउस के चीफ अशर को हटा दिया था. वहीं व्हाइट हाउस के पूर्व अधिकारियों ने ट्रंप के इस कृत्य की निंदा की है.

व्हाइट हाउस में चीफ अशर की भूमिका

दरअसल व्हाइट हाउस (White House) का प्रबंधन चीफ अशर के पास होता है. टिमोथी हार्लेथ पूर्ववर्ती राष्ट्रपति ट्रंप के मुख्य द्वारपाल यानी चीफ अशर थे. ट्रंप के पूर्व निजी कर्मचारी की नियुक्ति मेलानिया ने साल 2017 में की थी. बाइडेन के शपथ ग्रहण वाले दिन यानी 20 जनवरी को ही चंद घंटे पहले टिमोथी को बताया गया था कि उनकी सेवाएं खत्म कर दी गई हैं.
टिमोथी की सेलरी 2 लाख डॉलर थी. यह पद राजनैतिक नियुक्ति से जुड़ा नहीं है, लेकिन ट्रंप होटल के कर्मचारी को व्हाइट हाउस लाकर पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप की पत्नी मेलानिया ने पक्षपात किया था.

मीडिया घरानों और पूर्व स्टाफ ने की निंदा

अमेरिका के कई मीडिया घरानों ने इस घटनाक्रम की निंदा की है. इसे ट्रंप का अशोभनीय व्यवहार बताया गया. वहीं पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के व्हाइट हाउस सोशल सेक्रेटरी रह चुके ली बेरमैन कहते हैं, ‘यह प्रोटोकॉल का उल्लंघन है.’
वहीं एक और पूर्व चीफ अशर ने बताया कि  अगर राष्ट्रपति जल्दी उठने और देर तक जागने वाली प्रवत्ति के हों तो चीफ अशर को लंबी ड्यूटी करनी होती है.
हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी ये साफ नहीं किया गया है कि आखिरकार नव निर्वाचित राष्ट्रपति और फर्स्ट लेडी को दरवाजे पर क्यों इंतजार करना पड़ा. 

ये भी पढ़ें

Share the information