Prabhat Times
नई दिल्ली। देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच RBI (Reserve Bank of India) ने लोन रिस्ट्रक्चरिंग (Loan Restructuring) को लेकर बड़ा ऐलान किया है।
भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि जो भी लोन 1 मार्च 2020 तक बिना किसी डिफॉल्ट के बने हुए है, वह अगस्त में जारी होने वाली कोरोना महामारी से जुड़ी स्कीम ढांचे के तहत रिस्ट्रक्चरिंग के पात्र माने जाएंगे।
इससे पहले देश के सरकारी बैंक SBI की ओर से एक बयान जारी किया गया था, जिसमें बताया कि 1 मार्च 2020 को बैंक की बुक्स में मौजूद अकाउंट को ही लोन रिस्ट्रक्चरिंग की सुविधा मिलेगी।
RBI ने बयान में कहा कि देशभर में फैले कोरोना वायरस के बीच सरकार ने 1 मार्च 2020 तक 30 दिनों से अधिक के लिए लोन अकाउंट था, लेकिन बाद में इसको नियमित रूप से लागू कर दिया गया था।
क्योंकि Loan Restructuring केवल उन योग्य लोगों के लिए लागू है जिन्हें 1 मार्च, 2020 तक मानक के रूप में बांटा गया था हालांकि, ऐसे अकाउंट्स को 7 जून, 2019 को विवेकपूर्ण ढांचे के तहत हल किया जा सकता है।

लोन रिस्ट्रक्चरिंग प्लान के योग्य हैं या नहीं

बता दें अगर आप ये पता लगाना चाहते हैं कि आप लोन रिस्ट्रक्चरिंग प्लान के योग्य हैं या नहीं तो इसके लिए आपको अपने रिकैलकुलेटेड EMI अमाउंट, लोन रीपेमेंट पीरियड और संभावित इंटरेस्ट इत्यादि के बारे में जानकारी होनी चाहिए।

मोरेटोरियम का लाभ लेने के लिए क्या करें?

मोरेटोरियम का लाभ लेने के लिए, यह दिखाना जरूरी है कि आपके इनकम पर वैश्विक-महामारी का असर पड़ा है।
SBI के अनुसार, वेतनभोगी कर्मचारियों को सैलरी स्लिप या अकाउंट स्टेटमेंट्स दिखाना होगा। जिसमें सैलरी कटौती या सस्पेंशन, या लॉकडाउन के दौरान नौकरी छूटने की बात दिखाई देनी चाहिए।
इसके अलावा अपना बिजनेस करने वाले लोगों को लॉकडाउन के दौरान बिज़नेस बंद या कम होने से संबंधित डिक्लेयरेशन देना होगा।

SBI ने किया था ऐलान

बता दें हाल ही में उधारकर्ताओं पर कोविड-19 महामारी के असर को कम करने के लिए भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने हाल ही में लोन रिस्ट्रक्चरिंग (Loan Restructuring) का ऐलान किया था।
इसके अलावा कई अन्य बैंक भी RBI के दिशानिर्देशानुसार अपना-अपना लोन रिस्ट्रक्चरिंग प्लान ला सकते हैं।

Loan Restructuring से पहले करें विचार

बता दें लोन रिस्ट्रक्चरिंग को लेने से पहले अच्छी तरह सोचे-समझे उसके बाद ही कुछ फैसला लें।
बिना होम लोन, एजुकेशन लोन, ऑटोमोबाइल लोन या पर्सनल लोन को रिस्ट्रक्चर करने का ऑप्शन चुनने से नुकसान भी हो सकता है।
ये भी पढ़ें
Loan Moratorium मामले में आम आदमी को बड़ी राहत

केंद्र-किसानों के बीच नहीं बनी बात, पंजाब में आंदोलन को लेकर किसानों ने किया ये बड़ा ऐलान

अफगानिस्तान के हेलमंद में दो सैन्य विमान टकराए, 15 की मौत
Share the information