नरम पड़े नवजोत सिद्धू के तल्ख तेवर, इस्तीफे पर हाईकमान जल्द करेगा बड़ा ऐलान

surrender

Prabhat Times

नई दिल्ली। (Navjot Sidhu Meeting With Congress High Command) कभी असूलों, सिद्धांतो और कभी पंजाबियत के मुद्दों को लेकर ट्वीट पर ट्वीट कर हाईकमान पर दबाव बनाने का नवजोत सिद्धू का पैंतरा इस बार ज्यादा नहीं चला है।कांग्रेस हाईकमान का सख्त व नाराज़ रवैया देखते हुए नवजोत सिद्धू नर्म पड़ गए हैं। आज शाम नवजोत सिद्धू की हरीश रावत और वेणू गोपाल के साथ हुई बैठक के बाद मामला सुलझता नज़र आ रहा है। नवजोत सिद्धू ने कहा है कि हाईकमान का हर फैसला मंजूर है, तो हरीश रावत का कहना है कि सिद्धू प्रदेश प्रधान पद पर काम करतें रहेंगे। इस संबंधी बड़ा ऐलान पार्टी हाईकमान द्वारा शुक्रवार सुबह किया जाएगा। बता दें कि आज शाम नवजोत सिद्धू की दिल्ली में पार्टी के पंजाब प्रभारी हरीश रावत और केसी वेणुगोपाल से उनकी मुलाकात हुई.
बताया जा रहा है कि बैठक में सिद्धू ने अपनी बात रखी तो नेताओं ने भी उनके कई ट्वीट व वीडियो पर जवाब तलब किया। इस बैठक में सिद्धू के इस्‍तीफे के बारे में भी बात हुई। बताया जाता है कि पूरे प्रकरण में बातचीत के आधार पर कांग्रेस हाईकमान कल फैसला लेगी और सिद्धू ने उसे स्‍वीकार करने पर सहमति दी है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि सिद्धू का इस्‍तीफा प्रकरण सुलझ गया है, लेकिन सीएम चरणजीत सिंह चन्‍नी के साथ उनके मुद्दों पर अभी पेंच फंसा हुआ है।

हरीश रावत ने कही ये बात

मीटिंग के बाद हरीश रावत ने कहा कि अब साफ हो गया है कि सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बने रहेंगे और संगठन को मजबूत करेंगे. हरीश रावत ने कहा कि नवजोत सिद्धू ने साफ तौर पर कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष का फैसला उन्हें मंजूर होगा. निर्देश स्पष्ट हैं कि नवजोत सिद्धू को पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में काम करना चाहिए और संगठनात्मक संरचना की स्थापना करनी चाहिए. कल घोषणा की जाएगी. रावत ने पंजाब के हालात पर कहा कि हम बातचीत के जरिए सभी मुद्दों को सुलझाएंगे. सिद्धू और चन्नी ने सभी मुद्दों पर बात की है और जल्द ही कुछ समाधान निकल जाएगा.

हाईकमान का हर फैसला मंजूर

शाम को दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय पहुंचकर नवजोत सिंह सिद्धू ने हाईकमान से मुलाकात की। यही नहीं खुद सिद्धू ने मीटिंग से लौटकर बताया कि इस दौरान क्या बात हुई। सिद्धू ने कहा, ‘मैं हाईकमान को पंजाब और पंजाब कांग्रेस लेकर अपनी चिंताओं के बारे में अवगत कराया है। मुझे कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रियंका जी और राहुल गांधी पर पूरा भरोसा है। वे जो भी फैसला लेंगे, वह पंजाब और कांग्रेस के हित में ही होगा। मैं उनकी ओर से दिए निर्देशों का पालन करूंगा।’

कैप्टन से मिले मुख्यमंत्री चरणजीत

इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने आज पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाकात करने उनके फॉर्महाउस पहुंचे. कैप्टन अमरिंदर सिंह मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से ही अपनी पार्टी से नाराज चल रहे हैं. वह कांग्रेस पर अपमानित करने का आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ने का ऐलान भी कर चुके हैं. हालांकि, अब तक उन्होंने आधिकारिक रूप से पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया है.
मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी अपने नवविवाहित पुत्र-वधू को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के मोहाली के सिसवां स्थित फॉर्महाउस पर आशीर्वाद लेने पहुंचे. वह आज दोपहर को उनके फॉर्महाउस पर पहुंचे. इससे पहले जब चन्नी को पंजाब का नया मुख्यमंत्री बनाया गया था, तब कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी उन्हें बधाई दी थी

बी.एस.एफ. को पॉवर दिए जाने पर तनातनी

हालांकि दोनों नेताओं के बीच बीएसएफ को ज्यादा पावर दिए जाने के मसले पर सियासी घमासान शुरू हो गया. पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और मौजूदा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी इस मसले पर आमने-सामने आ गए. दोनों के बीच बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) को ज्यादा अधिकार दिए जाने को लेकर तनातनी देखी गई. एक ओर सीएम चन्नी ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर जहां सवाल उठाए तो दूसरी ओर पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस फैसले का स्वागत किया है.

ये भी पढ़ें