यूजर्स सावधान! WhatsApp ने भारत में बैन किए इतने करोड़ अकाउंट, जानें वजह

now
Prabhat Times
नई दिल्ली। (whatsapp banned over 1.32 crore indian accounts) भारत में अधिकांश स्मार्टफोन यूजर्स WhatsApp का उपयोग करते हैं. इस प्लेटफॉर्म ने जहां जीवन को आसान बना दिया है वहीं इसका दुरुपयोग भी बढ़ गया है. फेसबुक की स्वामित्व वाले मैसेजिंग प्लेटफॉर्म WhatsApp का कहना है कि WhatsApp की टर्म और कंडीशन का उल्लंघन करने वाले और भारत के कानून का उल्लंघन करने वाले यूजर्स के अकाउंट को बैन किया गया है. WhatsApp ने पिछले 6 महीने में 1.32 करोड़ भारतीय यूजर्स के अकाउंट बैन किए हैं.
WhatsApp ने भारत में पिछले साल दिसंबर में लगभग 20 लाख से ज्यादा अकाउंट (20,79,000) को बैन किया है. इसका खुलासा वॉट्सऐप की हाल ही में सामने आई भारत की दिसंबर 2021 की मंथली रिपोर्ट से हुआ है. आपको बता दें कि वॉट्सऐप के ये नए प्रतिबंधित अकाउंट्स के आंकड़े नवंबर 2021 में बैन किए गए अकाउंट्स से ज्यादा हैं. कंपनी ने नवंबर 2021 में भारत में करीब 17 लाख वॉट्सऐप  अकाउंट्स को बैन किया था.

6 महीने में बैन किए 1.32 करोड़ अकाउंट

वॉट्सऐप ने भारत में सरकार और उसके उपयोगकर्ताओं को सूचित किया है कि नए आईटी नियम लागू होने के बाद केवल 6 महीनों के भीतर 1.32 करोड़ से अधिक अकाउंट पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. वॉट्सऐप ने पहली बार जुलाई 2021 में खुलासा किया कि 15 मई 2021 और 15 जून, 2021 की अवधि में 20 लाख खातों (20,11,000) पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. दरअसल, उसके बाद हर महीने वॉट्सऐप  ने औसतन करीब 20 लाख अकाउंट्स को बैन कर दिया है. वॉट्सऐप +91 फोन नंबर के जरिए किसी अकाउंट की पहचान भारतीय के तौर पर करता है.
मैसेजिंग ऐप्लीकेशन का कहना है कि डाटा में दिए हुए हाईलाइट्स के मुताबिक, भारतीय यूजर्स के अकाउंट को 1 दिसंबर से लेकर 31 दिसंबर तक बैन किया गया है. क्योंकि इन अकाउंट्स में देखा गया है कि वो फर्जी डाटा लोगों तक फैला रहे हैं, जिससे काफी लोगों को ठगी से लेकर परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि वॉट्सऐप  खुदबा खुद इस तरह के अकाउंट को मिटाने में सक्षम रहता है, क्योंकि उसके पास End-to-End encrypted मैसेजिंग सर्विसेस है.
कंपनी ने अपनी लेटेस्ट रिपोर्ट में कहा है. किसी तरह की अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने वालों और कंपनी की “रिपोर्ट” फीचर के माध्यम से यूजर्स से प्राप्त नेगेटिव फीडबैक के आधार पर ये कार्रवाई की गई है. हम अपने काम में और अधिक पारदर्शिता लाना जारी रखेंगे और भविष्य की रिपोर्ट में अपने प्रयासों के बारे में अधिक जानकारी शामिल करेंगे.

ये भी पढ़ें